कला के विविध रंगों से दमक उठा युवा उत्सव

पूर्णिया. बिहार के पूर्णिया में तीन दिवसीय युवा महोत्सव का 14 दिसंबर को रंगारंग कार्यक्रम के साथ समापन हो गया.

Read more

रामलीला के लिए मशहूर है रामलीलागाछी

तुलसीदास, कबीरदास, विद्यापति, भिखारी ठाकुर सरीखे कवियों का दोहा–चौपाई व सवैया आज भी आमजन के दिलों–दिमाग में रचा–बसा है। तुलसीदास की रचना ‘रामचरितमानस’ के पदों को भजन–कीर्तन व अष्टयाम् में गाने की परंपरा गांवों में सालों से चलती आ रही है।

Read more

सावन हे सखी सगरो सोहावन

पारू से खुशबू कुमारी || गांव के लोग प्रकृति के साथ जीते हैं। खेत-खलीहान, बाग-बगीचा, कीट-पतंग के सहचर हैं गांव के

Read more